हे सुंदर आत्मा, चलो हमारे अलौकिक माता-पिता को धन्यवाद देने के साथ शुरू करते हैं; जो ब्रह्माण्ड है। आप भाग्यशाली हैं कि आपने आज सुबह अपनी आँखें खोलीं। कई लोग है आज की सुबह नहीं देख सके। अपनी आँखें बंद करो और अपने पास मौजूद हर चीज़ के लिए यूनिवर्स